Begunkodar railway station hindi - बेगुंकोदोर ऐसा भूतिया रेलवे स्टेशन जिसके भूताह होने की वजह से 42 साल तक यहाँ नहीं रुकी एक भी ट्रेन। - CHAL WAHAN JAATE HAIN

Latest

Friday, April 17, 2020

Begunkodar railway station hindi - बेगुंकोदोर ऐसा भूतिया रेलवे स्टेशन जिसके भूताह होने की वजह से 42 साल तक यहाँ नहीं रुकी एक भी ट्रेन।



Haunted Story

Begunkodar railway station hindi - यह कहानी है कोलकाता से लगभग 300 किलोमीटर दूर एक छोटे से गांव बेगुंकोदोर की। जब 1962 में इंडियन रेलवे लोगों की डिमांड पर Begunkodar में एक रेलवे स्टेशन खोलती है। सब कुछ ठीक ही चल रहा था तो ऐसा क्या हुआ की महज़ 5 साल के बाद ही इस रेलवे स्टेशन को बंद करना पड़ा और फिर एक या दो नहीं बल्कि 42 साल तक यहाँ एक भी ट्रेन नहीं रुकी। 



Haunted Story



Begunkodar railway station hindi - यह बात है अक्टूबर 1967 की कहा जाता है की बेगुंकोदोर रेलवे स्टेशन के स्टेशन मास्टर जिसका नाम मोहन बताया जाता है को सफ़ेद साड़ी पहनें हुए एक लड़की ट्रैन के आगे-आगे पटरियों पर भागती हुई दिखाई देती है। मोहन उस लड़की को देखकर अपने ऑफिस से निकलकर पटरियों की तरफ जाते हैं लेकिन तबतक वह लड़की वहां से गायब हो चुकी होती है और स्टेशन मास्टर को वहाँ कोई लड़की दिखाई नहीं देती। 


Haunted

Begunkodar railway station hindi - अगली शाम फिर वही सफ़ेद साड़ी पहने हुए लड़की स्टेशन मास्टर को दिखाई दी और इस बार वह पटरियों पर ट्रेन से भी ज़्यादा तेज़ भाग रही थी। स्टेशन मास्टर यह देखकर हैरान हो गये उन्होंने अपने स्टाफ के लोगों को इस पूरी घटना के बारे में बताया इस पर उनके स्टाफ मेंबर्स का कहना था की उन्होंने भी सफ़ेद साड़ी पहनें एक लड़की को ट्रैन की पटरियों पर भागते हुए कई बार देखा है और सिर्फ भागते हुए ही नहीं उसे ट्रेन की पटरियों पर कई बार नाचते हुए भी देखा गया है।

Haunted Railway Station Begunkodar

Haunted Story

Begunkodar railway station Horror Story - यह बात मोहन को बहुत परेशान कर रही थी की एक लड़की कैसे किसी ट्रेन से भी तेज़ भाग सकती है। मोहन और केवल उनके स्टाफ के लोगों ने ही नहीं बल्कि वहाँ आस पास रहनें वाले लोगों ने भी एक सफ़ेद साड़ी पहनी हुई लड़की को ट्रेन के आगे-आगे भागते हुए और ट्रैन की पटरियों पर नाचते हुए देखा था। वह सिर्फ शाम के वक़्त ही दिखाई देती थी वह भी तब जब वहां ट्रैन आती थी। ट्रैन के आने से पहले या ट्रैन जाने के बाद उस लड़की को कभी किसी ने नहीं देखा। 



Haunted Story




Begunkodar railway station hindi - इसके बाद मोहन की तबियत अचानक बिगड़ गयी और दो दिन के बाद ही मोहन की रहस्मयी तरीके से मौत हो गयी। मोहन की मौत के बाद Begunkodar Railway Station पर दूसरे स्टेशन मास्टर की तैनाती हुई लेकिन दूसरे स्टेशन मास्टर को भी वह सफ़ेद साड़ी वाली लड़की ट्रेन के आगे-आगे भागते हुए और पटरियों पर नाचते हुए दिखाई देनें लगी। उस स्टेशन मास्टर को मोहन की कहानी मालूम थी इसलिए उन्होंने अपना ट्रांसफर कहीं और करा लिया। नौबत यहाँ तक आ गयी की बेगुंकोदोर रेलवे स्टेशन पर कोई भी स्टाफ मेंबर काम करने के लिए राज़ी नहीं था और लोगों नें भी इस स्टेशन के आस पास आना जाना बंद कर दिया। 

यह भी पढ़ें :- Stree Movie Real Story- ''स्त्री'' मूवी की सच्ची कहानी एक चुड़ैल कि दहशत में था पूरा गांव।

Haunted Railway Station

Begunkodar railway station hindi - ट्रेन वहां  से गुज़रती तो थी पर रूकती नहीं थी स्टेशन तो था लेकिन मुसाफिर नहीं थे। भारतीय रेलवे ने देखा की इस स्टेशन पर कोई भी स्टाफ मेंबर काम करनें के लिए राज़ी नहीं है तो साल 1968 की शुरुआत में ही Begunkodar Railway Station को बंद कर दिया गया। धीरे धीरे इस रेलवे स्टेशन को भूतिया रेलवे स्टेशन  (Haunted Railway Station) कहा जानें लगा। यहाँ के लोगों का मानना था की साल 1966 में एक लड़की जिसकी मौत यहाँ ट्रेन के नीचे आ जाने से हो गयी थी उस ही  लड़की की आत्मा इस रेलवे स्टेशन पर भटक रही है। 

Begunkodar railway station hindi - समय बीता और समय के साथ साथ इस रेलवे स्टेशन को फिर से खोलने की डिमांड होने लगी इसी डिमांड के चलते पैरानॉर्मल एक्टिविटी एक्सपर्ट की 11 लोगों की टीम यहाँ आयी वह लोग इस स्टेशन पर एक रात रुक कर सर्वे करना चाहते थे। लेकिन वहाँ  रहनें वाले आसपास के लोग Begunkodar Railway Station को दोबारा खोले जाने से खुश नहीं थे। पैरानॉर्मल एक्टिविटी एक्सपर्ट की टीम नें यहाँ सी0सी0टी0वी0 कैमरे और आत्माओं को डिटैक्ट करनें वाली मशीनें लगाईं और स्टेशन के हर कमरे,प्लेटफार्म और पटरियों पर अपना सर्वे किया लेकिन उन्हें वहां ऐसा कुछ दिखाई नहीं दिया।पैरानॉर्मल एक्टिविटी एक्सपर्ट की टीम की रिपोर्ट और इस स्टेशन को दोबारा खोले जाने की लोगों की डिमांड पर Begunkodar Railway Station को दोबारा खोला गया। 


Begunkodar Haunted Railway Station Story

Begunkodar railway station hindi - इस स्टेशन को लगभग 42 साल के बाद फिर से खोला गया लेकिन Begunkodar Railway Station के बारे में आज भी कहा जाता है की रात होने के बाद यहाँ एक या दो ट्रेन ही रूकती हैं। बाकी यहाँ से गुजरनें वाली ट्रेन के ड्राइवर यहाँ ट्रेन की स्पीड को और बड़ा देते हैं और उन ट्रेनों में सफर कर रहे मुसाफिर ट्रेन की खिड़कियां और दरवाजे बंद कर लेते हैं। उन लोगों का यह मानना है की जिस किसी ने भी यहाँ उस सफ़ेद साड़ी पहनें हुई लड़की को देखा तो या तो वह बहुत बीमार हो गया या फिर उसकी रहस्मयी तरीके से मौत हो गयी। 

यह भी पढ़ें : भानगढ़ का किला भारत का सबसे भूताह किला जहाँ सूरज ढलते ही भटकती हैं आत्माएं।


उम्मीद है की आपको मेरी पोस्ट पसंद आयी होगी। यह पोस्ट आपको कैसी लगी कॉमेंट करके ज़रूर बताएं और अगर आपको यह पोस्ट पसंद आयी तो इसे अपने दोस्तों में ज़्यादा से ज़्यादा शेयर ज़रूर कीजियेगा। मेरी हमेशा यही कोशिश रहेगी की मैं आपके लिए ऐसी हॉंटेड जगहों के बारे में पूरी जानकारी लाता रहूं और आपको अपडेट करता रहूं। आशा करता हूँ की आप भी इसी तरह अपना प्यार बनाएं रखेंगें जिससे मुझे हमेशा मोटिवेशन मिलता रहेगा। 



Thank you 😊😊

No comments:

Post a Comment